मोबिलिटी समिट के उद्घाटन भाषण में बोले पीएम- भारत बढ़ रहा है

 नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले वर्ल्ड मोबिलिटी समिट ‘मूव’ का उद्घाटन करते हुए कहा है कि इस समिट के नाम ‘मूव’ में आज के भारत के मिजाज की झलक मिलती है। उन्होंने कहा, ‘इनडीड इंडिया इज ऑन मूव (दरअसल भारत बढ़ रहा है)।’ इस दो दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन नीति आयोग ने किया है जो शनिवार को खत्म होगा। इस कार्यक्रम में दुनियाभर से करीब 2,200 भागीदार शिरकत कर रहे हैं। इनमें सरकारों, उद्योग, शोध संगठनों, अकादमियों और समाज के प्रतिनिधि शामिल हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अमेरिका, जापान, सिंगापुर, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, न्यू जीलैंड, ऑस्ट्रिया, जर्मनी और ब्राजील के दूतावासों तथा निजी क्षेत्र के प्रतिनिधि सम्मेलन में हिस्सा ले रहे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने उद्घाटन भाषण में सार्वजनिक परिवहन को बढ़ावा दिए जाने पर यह कहते हुए जोर दिया कि इससे अर्थव्यवस्था और पर्यावरण को पहुंच रहे नुकसान को कम किया जा सकता है। उन्होंने कहा, ‘पब्लिक ट्रांसपोर्ट ही हमारी आवाजाही की आधारशिला होनी चाहिए। इसलिए, हमें कारों से ध्यान हटाकर सार्वजनिक परिवहन पर जोर देना होगा।’ उन्होंने आगे कहा कि आर्थिक और पर्यावरण की दृष्टि से हो रहा नुकसान रोकने के लिए अबाधित आवाजाही सुनिश्चित करना बेहद महत्वपूर्ण है।

चौतरफा बढ़ रहा है भारतः पीएम
पीएम ने ‘मूव’ को भारत की प्रगति से जोड़ते हुए कई बातों का जिक्र किया। उन्होंने कहा, ‘हमारी अर्थव्यवस्था बढ़ रही है- हम दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती बड़ी अर्थव्यवस्था हैं।’ मोदी ने कहा, ‘हमारे शहर और नगर (सिटीज ऐंड टाउन्स) बढ़ रहे हैं- हम 100 स्मार्ट सिटीज बना रहे हैं। हमारे इन्फ्रास्ट्रक्चर बढ़ रहे हैं- हम सड़क, हवाई अड्डे, रेल लाइन और बंदरगाह तेज गति से बना रहे हैं। हमारे गुड्स बढ़ रहे हैं- जीएसटी से हमें सप्लाइ चेन और वेयरहाउस नेटवर्क्स को तर्कसंगत बनाने में मदद मिली है। हमारे सुधार (रिफॉर्म्स) आगे बढ़ रहे हैं- हमने बिजनस करने के लिहाज से भारत को आरामदायक स्थान बना दिया है। हमारे जनजीवन आगे बढ़ रहे हैं- परिवारों को घर, शौचालय, एलपीजी सिलिंडर, बैंक अकाउंट और लोन मिल रहे हैं। हमारे युवा बढ़ रहे हैं- हम दुनिया का सबसे तेजी से बढ़ता स्टार्टअप हब हैं।’

मोबिलिटी मानवता की प्रगति का केंद्रबिंदु
मोदी ने कहा कि मोबिलिटी मानवता की प्रगति का केंद्रबिंदु रहा है, इसलिए भारत नई ऊर्जा, तीव्र इच्छा और मकसद के साथ आगे बढ़ रहा है। भारत में हाइवेज बनाने का गति दोगुनी कर दी गई है और सैकड़ों हवाई मार्गों पर संचालन शुरू कर दिया है।

क्या है मोबिलिटी समिट?
नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कान्त ने शिखर सम्मेलन से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर बताया कि सम्मेलन का मुख्य मकसद भारत में लोगों के यात्रा करने के तरीके में बड़ा बदलाव लाना है। वहीं, नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा कि भारत को मोबिलिटी के लिए एकीकृत सम्मिलित नीति की रूपरेखा बनाने की जरूरत है। उनके मुताबिक, मोबिलिटी क्षेत्र में आनेवाले बदलावों की वजह से भारत अधिक रोजगार के अवसर पैदा कर पाएगा और देश के नागरिकों के जीवन को सुगम किया जा सकेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *