प्रधानमंत्री आवास योजना की पहली किश्त लेकर सरपंच ने तूड़वा दिया पूराना घर, घर वाले हुए बेघर

गरियाबंद । प्रधानमंत्री के द्वारा हर गरीब परिवार जो कच्चे मकान में निवास करते है या जिनका खुद का मकान नही है उनके लिए प्रधान मंत्री आवास योजना चला के उन्हें आवास उपलब्ध कराया जा रहा है ,परंतु कुछ एक जनप्रतिनिधि इन नियमो को अनदेखा कर हितग्राहियों के आवास मकान की राशि को तो खा ही गए है और ऊपर से हितग्राही के पुराने मकान को तोड़कर उन्हें बेघर करने में लगे हुए है , ऐसा ही एक मामला जिला मुख्यालय से महज 2 किलोमीटर दूर ग्रामपंचायत मजरकट्टा की है जहां के प्रधानमंत्री आवास निर्माण का प्रथम किश्त को निकाले लगभग सात माह हो गया है फिर भी हितग्राही के आवास का कार्य प्रारंभ नही हो पाया है । ज्ञात हो कि ग्राम पंचायत मजरकट्टा के वार्ड नंबर 13 में रहने वाली अघन्तिन बाई निषाद अपनी बेटी सुमिन्त्रा के साथ रहती थी उसके नाम से गत वर्ष प्रधानमंत्री आवास की स्वीकृति शासन से मिला  ,वही माह नवंबर में उक्त बुजुर्ग महिला को सरपंच अपने साथ बैंक ले गया और आवास का प्रथम किश्त निकालकर अपने पास मकान बनाने के लिए रख लिया ,परन्तु उसके कुछ दिनों पाश्चात्य हितग्राही की मौत किसी कारण वश हो गई ,अघन्तिन की मौत के बाद घर मे उसकी बेटी सुमिन्त्रा उस कच्चे मकान की वारिस थी, उसी दरम्यान सरपंच के द्वारा उसके कच्चे मकान को भी नया आवास बनाने के नाम से तोड़वा दिया गया ,परंतु आज तक उसके आवास का निर्माण प्रारम्भ नही किया गया ,इस बीच उक्त हितग्राही सुमिन्त्रा सरपंच से कई बार मिलकर आवास प्रारम्भ करने के लिए गिड़गिड़ाते रही परन्तु सरपंच के द्वारा उसे आज तक सिर्फ आश्वासन ही दिया गया । अकेली परेशान महिला सुमिन्त्रा को परेशान होते देख गांव के ही कुछ समझदार लोगो के द्वारा उसके लिए एक झोपड़ी बनाया गया जहां वह महिला अभी निवास कर रही है ,परंतु बर्षात होने के समय वह महिला दुसरो के घर मे शरण लेती रहती है फिर भी ग्राम के सरपंच द्वारा उस परेशान महिला की परेशानियों के तरफ ध्यान नही जा रहा है । हितग्राही सुमिन्त्रा निषाद ने बताया कि सरपंच से वो कई बार मिलकर निवेदन कर चुकी है परन्तु सरपंच उसकी बात को सुन कर टाल देता है और आवास के लिए मिला बैंक पासबुक भी अपने पास ही रखा है ।इस विषय मे जनपद पंचायत के मुख्यकार्यपालन अधिकारी बीएस भगत  गरियाबंद  से पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि ,हितग्राही की शिकायत मेरे पास आएगा तो मैं धारा 40 के तहत उनके ऊपर कार्यवाही कर एस डी एम को प्रकरण दूंगा साथ ही हितग्राही स्वयं थाने में सरपंच के खिलाफ एफ आई आर करवा सकता है ।वही ग्राम पंचायत सचिव योगेंद यादव ने बताया कि सरपंच ने उक्त हितग्राही के आवास की राशि निकाला तो हैं परन्तु निकाली गई राशि कितने का जी मुझे पता नही ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *