बाजार में 100 रूपए प्रतिकिलो तक पहुंचा टमाटर

रायपुर, 13 जुलाई (एनपी)। बारिश के सीजन में मांग की अपेक्षा आपूर्ति कम होने से इन दिनों टमाटर की कीमत आसमान छूने लगी है। राजधानी में टमाटर इन दिनों 100 रूपए प्रतिकिलो तक पहुंच गई है। टमाटर के अत्यधिक महंगा हो जाने से जहां आमजन हलाकान हैं तो वहीं सब्जी विक्रेता भी बिक्री घटने से चिंतित हैं।
राजधानी रायपुर में इन दिनों टमाटर की कीमत सुन लोग सकते में आ गए हैं। 40 रूपए से प्रतिकिलो तक बिक रहा टमाटर अचानक महंगा होते गया। बाजार टमाटर 40 रूपए के बाद सीधे 60 रूपए और इसके बाद 80 रूपए प्रतिकिलो तक बिक रहा था। लेकिन आज बाजार में टमाटर सीधे 100 रूपए प्रतिकिलो बिकना शुरू हो गया है। शास्त्रीबाजार के व्यापारियों ने बताया कि राजधानी रायपुर में प्रतिदिन औसतन 10 ट्रक टमाटर की खपत होती है, करीब इतना ही शहर की औसत मांग भी है। लेकिन बीते कुछ दिनों से शहर की मंडी में केवल 2 से 3 ट्रक टमाटर ही पहुंच रहा है। बाहर से टमाटर की आवक कम हो जाने के कारण अचानक टमाटर की कीमत आसमान छूने लगी है। इसके अलावा बारिश भी टमाटर का रेट बढऩे का प्रमुख कारण माना जा सकता है। बारिश में टमाटर की फसल काफी जल्दी खराब हो जाती है। लिहाजा इस सीजन में टमाटर, धनिया, हरी मिर्च की कीमत बढऩा आम बात है, लेकिन वर्तमान में टमाटर की कीमत सुन ग्राहक भी इसे खरीदने से परहेज करने लगे हैं। यही वजह है कि इन दिनों सब्जी विक्रेता ग्राहकी टूटने से काफी सकते में आ गए हैं। इधर चिल्हर बाजार में सब्जी बेचने वाले फुटकर विक्रेताओं ने बताया कि यदि एक-दो दिनों में टमाटर की कीमत कम नहीं होती तो निश्चित रूप से अधिकांश विक्रेताओं को भारी नुकसान उठाना पड़ जाएगा। बाजार में टमाटर प्रति कैरेट 1800 रूपए तक पहुंच गया है। अधिकांश फुटकर विक्रेताओं ने बढ़ी कीमत देखते हुए केवल 1 कैरेट ही टमाटर खरीदा है, लेकिन ग्राहकी नहीं होने से टमाटर के खराब होने और आर्थिक नुकसान होना तय है। बहरहाल सभी फुटकर विक्रेता टमाटर की आवक बढऩे का इंतजार कर रहे हैं, ताकि इसकी कीमत सामान्य हो सके।