10 रूपए का सिक्का लेने से बैंक कर रहे इंकार, व्यापारिक लेन देन में हो रही परेशानी

  • आम उपभोक्ता 10 रूपए के सिक्के को लेकर पशोपेश में
    रायपुर, 17 फरवरी (एनपी)।  राजधानी में अनेक दुकानों में 10 रूपए का सिक्का बंद होने की अफवाह के चलते आम शहरी वैसे ही इन दिनों मानसिक तौर पर परेशान है। राजकीय मुद्रा का अपमान जिस तरह खुलेआम हो रहा है। उस पर बैंक के शाखा प्रबंधकों की चुप्पी आश्चर्यजनक है। रिजर्व बैंक आफ इंडिया द्वारा नवंबर 2016 में जारी सरकुलर के अनुसार 10 रूपए के सिक्के केंद्र सरकार द्वारा बंद नहीं किये गये है। बावजूद इसके अब बैंकों द्वारा 10 रूपए के सिक्के नहीं लेने की  जानकारी मिलने के बाद व्यवसायिक जगत में इन दिनों व्यापारियों को लेन देन में भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। चैंबर आफ कामर्स के सदस्यों से मिली जानकारी के अनुसार बैंक प्रबंधनों द्वारा 10 रूपए का सिक्का लेने से साफ इंकार किया जा रहा है। इसी प्रकार स्वंय प्रतिनिधि की संस्था के लेखा अधिकारी को पिछले दिनों देना बैंक यूनियन बैंक एवं एक्सिस बैंक की रायपुर शाखा द्वारा 2000 रूपए के सिक्के देने पर वापस लौटा दिया गया। शंकर नगर क्षेत्र के बड़े प्रोविजन स्टोर के संचालक ने प्रतिनिधि को बताया कि वे अपने परिवार की बैंक शाखाओं में तीन लाख का सिक्का लेकर गये थे किन्तु बैंक प्रबंधकों ने गिनने की परेशानी बताकर 10 रूपए के उपरोक्त सिक्कों को लेने से इंकार कर दिया। संचालक ने आक्रोशित होते हुए इस माह सभी बैंकों में अपने खाते बंद करने की जानकारी दी। रिजर्व बैंक आफ इंडिया की मान्यता प्राप्त शाखाओं द्वारा जिस तरह से 10 रूपए का सिक्का लेने से इंकार किया जा रहा है। वह केंद्र सरकार द्वारा जारी वित्त नीति का खुलेआम अपमान है। इस पर व्यापारियों के साथ ही आम उपभोक्ता भी इन दिनों त्रस्त हो रहा है।
    रिजर्व बैंक आफ इंडिया की रिजनल मैनेजर कुमारी श्यामली प्रसाद से मोबाइल पर संपर्क करने पर उनके पीए ने मीटिंग में होने का हवाला देते हुये 10 रूपए के सिक्के बैंक की शाखाओं द्वारा अस्वीकृत किये जाने के मामले में फोन पर जानकारी देने से इंकार करते हुये सुंदरनगर स्थित शाखा में व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होकर संबंधित अधिकारी से चर्चा करने की सलाह दी। उन्होंने 10 रूपए के सिक्के बैंकों द्वारा नहीं लिये जाने के मामले में कोई भी जानकारी देने से स्पष्ट रूप से इंकार कर दिया।
    निज सचिव रिजनल मैनेजर रिजर्व बैंक आफ इंडिया सुंदरनगर