इंदौर में मकान के बंटवारे में रिश्तों का खून

इंदौर, 5 दिसंबर (एनपी)। पुश्तैनी मकान में ज्यादा हिस्सा मांग रहे एक शख्स ने बेटे के साथ मिलकर सोमवार सुबह भाई और भतीजे पर चाकू से हमला कर दिया। घटना में भतीजे की मौत हो गई। घटना चंदन नगर थाना क्षेत्र की गली नंबर दो की है। पुलिस ने आरोपी बाप-बेटे को पकड़ लिया है। मकान में ज्यादा हिस्सा मांगने को लेकर सोमवार सुबह रिश्तों का खून हो गया। एक वैन चालक ने अपने बेटे के साथ मिलकर भाई और भतीजे पर हमला कर दिया, जिसमें भतीजे की मौत हो गई। पुलिस ने आरोपी बाप-बेटे को गिरफ्तार कर लिया है। चंदन नगर पुलिस के अनुसार दूसरी गली में रहने वाले वेन चालक 28 वर्षीय हुमायु की सोमवार को हत्या उसकी के बड़े पापा शाजीद बाबा और उनके बेटे शानू ने चाकू घोंपकर कर दी। हुमायु के पिता हमीद को भी चाकू लगे हैं, हांलाकि वे खतरे से बाहर हैं। चश्मदीदों के अनुसार, सोमवार सुबह शाजीद बाबा और उसके घर की महिलाएं हमीद के घर के बाहर आई थी। वे अपशब्द कह रहे थे। उनका कहना था कि हम मकान की सफाई करेंगे। हमीद ने कहा कि चले जाओ तुम्हारा भी मकान है। हमीद अपनी वेन निकालने लगा था। फिर महिलाएं घर चली गई और बेटे शाहनवाज उर्फ शानू को बुला लाई। शानू के साथ एक अन्य दोस्त भी था। वे भी हमीद को अपशब्द कहने लगे थे।
तभी हमीद का बेटा हुमायु भी अंदर से बाहर आया और हंगामा न करने की बात कही। कोई मान नही रहा था। हुमायुं ने क्षेत्रिय पार्षद मुबारिक मंसूरी को आकर मामला सुलझाने के लिए फोन किया। मुबारिक ने कहा कि तुम 100 डायल करके पुलिस को बुलवा लो और इनकी रिकार्डिंग भी कर लो। हुमायु पुलिस को फोन लगाता इसके पहले शानू, उसके दोस्त और पिता शाजीद बाबा ने चाकुओं से हमला बोला। सभी ने पहले हुमायुं को घेरा और एक-एक कर पांच गंभीर वार कर दिए। फिर हमीद को भी पीटा और उसे चाकू घोंपा। लोग इक_ा होकर बचाने आते, इसके पहले आरोपी पक्ष व महिलाएं भाग निकले। लोगों ने मदद कर घायल पिता पुत्र को जिला अस्पताल पहुंचाया। तब तक आरोपी पिता-पुत्र चंदन नगर थाने पहुंच गए और घायलों के खिलाफ ही झूठी रिपोर्ट दर्ज करवाने लगे। पुलिस ने उन्हें बैठा लिया। उधर, घायल हुमायुं की हालत और ज्यादा बिगड़ गई। उसका निजी अस्पताल में इलाज शुरू हुआ, लेकिन रक्त बहना बंद नही हो रहा था। सोमवार दोपहर में उसने दम तोड़ दिया। मृतक की पत्नी परवीन और दो साल की बेटी यास्मीन है। रिश्तेदारों ने बताया कि हमीद जिस मकान में रहता है, वह पैतृक है। तीनों भाई हमीद, शाजिद बाबा और माजिद का इस मकान में हिस्सा था। माजिद की सालों पहले मौत हो गई। हमीद ने भाई माजिद के बच्चों को उसी दौरान हिस्सा दे दिया था। इस मकान में आरोपी शाजिद बाबा ज्यादा हिस्सा मांग रहा था। हमीद का कहना था कि अभी वह रह रहा है, लेकिन जब भी मकान बिक जाएगा तो उसे हिस्सा दे देगा। मकान बेचने के लिए भी लोगों को सूचनाएं दी थीं, लेकिन शाजिद आए दिन विवाद करता था। आरोपी और फरियादी चारों पिता-पुत्र वैन चलाते हैं। फिलहाल पुलिस तीसरे आरोपी की तलाश में लगी है।