सभी जिलों में होंगे अंत्योदय कल्याण मेले : डॉ. रमन सिंह

  • मुख्यमंत्री शामिल हुए सरायपाली के अंत्योदय कल्याण मेले में : लगभग 60.62 करोड़ रूपए के निर्माण कार्यों का लोकार्पण-शिलान्यास
  • उज्ज्वला योजना के तहत दस हजार महिलाओं को नि:शुल्क रसोई गैस कनेक्शन की सौगात
  • प्रधानमंत्री मुद्रा योजना में तीन हजार कारोबारियों को देंगे 2.50 करोड़ का ऋण
  • इन्हें मिलाकर विभिन्न योजनाओं में 19 हजार हितग्राहियों को छह करोड़ का अनुदान
    रायपुर, 13 नवंबर (एनपी)।   मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज दोपहर महासमुंद जिले के तहसील मुख्यालय सरायपाली में जिले की जनता को लगभग 60 करोड़ 62 लाख रूपए के 57 विभिन्न निर्माण कार्यों की सौगात दी। उन्होंने इनमें से करीब 15 करोड़ 15 लाख रूपए के 32 पूर्ण हो चुके निर्माण कार्यों का लोकार्पण और 37 करोड़ 06 लाख रूपए के 25 नये स्वीकृत निर्माण कार्यों का भूमिपूजन और शिलान्यास किया। डॉ. सिंह ने इसके अलावा 19 हजार से ज्यादा हितग्राहियों को विभिन्न योजनाओं में छह करोड़ रूपए से भी अधिक अनुदान राशि के चेक और सामान वितरण कार्य का भी शुभारंभ किया। डॉ. सिंह इस अवसर पर अन्त्योदय कल्याण मेले और स्वच्छता सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए।
    विशाल जनसभा को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य शासन द्वारा महासमुंद जिले की तर्ज पर अंत्योदय कल्याण मेले का आयोजन प्रदेश के सभी जिलों में किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि यह वर्ष पूरे देश में अंत्योदय और एकात्म मानववाद के प्रवर्तक पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जन्म शताब्दी वर्ष के अन्तर्गत गरीब कल्याण वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने महासमुंद जिले के ग्राम खरोरा से संजय कानन तक मार्ग विभाजक निर्माण के लिए पांच करोड़ रूपए मंजूर करने और सरायपाली में मंगल भवन निर्माण की स्वीकृति देने की भी घोषणा की।
    डॉ. सिंह ने पत्थर्रा-मोहगंाव सड़क पर दो पुलियों के निर्माण की मांग भी मंजूर करने का ऐलान किया। डॉ. सिंह ने महासमुंद जिले के सरायपाली क्षेत्र में स्वच्छ भारत मिशन के तहत बालिकाओं द्वारा जन-जागरण के लिए बनायी गयी ‘नोनी स्वच्छता टोलीÓ की विशेष रूप से तारीफ की। उन्होंने इसे अन्य क्षेत्रों और जिलों के लिए भी प्रेरणादायक बताया। डॉ. सिंह ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा कालेधन की समस्या से निपटने के लिए एक हजार और 500 से पुराने नोटों का प्रचलन बंद करने के फैसले को ऐतिहासिक और स्वागत योग्य बताया। डॉ. सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री ने देश को बाहरी ताकतों से बचाने के लिए जिस प्रकार सर्जिकल स्ट्राइक किया था, उसी तरह उन्होंने देश के भीतर जनता की आर्थिक सुरक्षा के लिए यह क्रांतिकारी कदम उठाया है। उन्होंने कहा- प्रधानमंत्री श्री मोदी ने विगत ढाई साल में देश के गरीबों, किसानों और समाज के कमजोर वर्गों की बेहतरी के लिए कई नवीन योजनाओं की शुरूआत की है। डॉ. सिंह ने जनता को छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के सोलह साल पूर्ण होने की बधाई दी और कहा कि इस बार राज्योत्सव के शुभारंभ समारोह में प्रधानमंत्री  श्री मोदी ने प्रदेश के किसानों को सौर सुजला योजना की भी सौगात दी है। इसके अन्तर्गत आकर्षक अनुदान पर किसानों को सोलर सिंचाई पम्प दिए जाएंगे।
    मुख्यमंत्री ने अंत्योदय कल्याण मेले में विभिन्न शासकीय योजनाओं के तहत जिले के 19 हजार 553 हितग्राहियों को छह करोड़ रूपए से ज्यादा अनुदान राशि के चेक और सामान वितरण कार्य का भी शुभारंभ किया। जिले के गरीब परिवारों की दस हजार महिलाएं भी इनमें शामिल हैं, जिन्हें प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत मुख्यमंत्री के हाथों नि:शुल्क रसोई गैस कनेक्शन देने की शुरूआत की गयी। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत तीन हजार हितग्राहियों को कारोबार के लिए दो करोड़ 50 लाख रूपए का ऋण वितरित किया गया। इसके अलावा चार हजार 050 किसानों को मिट्टी परीक्षण के बाद तैयार मृदा स्वास्थ्य कार्ड दिए दिए गए। असंगठित क्षेत्र के लगभग तीन हजार 500 श्रमिक हितग्राहियों को मुख्यमंत्री साइकिल सहायता योजना के तहत 99 लाख 33 हजार रूपए के चेक वितरण का कार्यक्रम भी वहां आयोजित किया गया। मुख्यमंत्री ने प्रतीक स्वरूप कई हितग्राहियों को राशि और सामग्री का वितरण किया।
    डॉ. सिंह इस मौके पर जिले के 30 गांवों में कृषि ऊर्जा ग्राम योजना के तहत किसानों के सिंचाई पम्पों को बिजली का कनेक्शन देने के लिए पूर्ण किए गए लाईन विस्तार कार्य का भी लोकार्पण किया। इनमें रायपानी, साल्हेभाठा, चारभाठा, दरबेकेरा, तोषगांव, अमलोर, पोटापारा, कुसमी, भिथीडीह, खुटेरी आदि गांव शामिल है। उन्होंने कार्यक्रम में जिले के तीन गांवों के लिए तीन करोड़ 28 लाख रूपए की लागत से बनने वाले विद्युत उपकेन्द्रों का भी शिलान्यास किया। ये विद्युत उप-केन्द्र विकासखंड सरायपाली के गनेकेरा और सिंघनपुर तथा विकासखंड बागबाहरा के ग्राम झारा में बनाए जाएंगे।
    डॉ. सिंह ने सरायपाली के कार्यक्रम में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा चार गांवों में एक करोड़ 09 लाख रूपए की लागत से निर्मित नल-जल प्रदाय योजनाओं का भी लोकार्पण किया। स्वच्छ पेयजल के लिए इन योजनाओं का निर्माण ग्राम बिरकोल, तेंदूकोना, पाटसेन्द्री और बोड़ेसरा में किया गया है। अंत्योदय कल्याण मेले में मुख्यमंत्री ने बागबाहरा के नवनिर्मित पुलिस थाना भवन का भी लोकार्पण किया। उन्होंने इसके अलावा जिले के कई गांवों के लिए सीमेंट कांक्रीट सड़कों का भी लोकार्पण और शिलान्यास किया। लोक निर्माण विभाग ने पांच करोड़ 92 लाख रूपए की लागत से ग्राम सुअरमाल-बसुलाडबरी-मोंगरापाली सड़क का निर्माण पूर्ण कर लिया है। मुख्यमंत्री ने इसका भी लोकार्पण किया। जल संसाधन विभाग द्वारा 84 लाख 22 हजार रूपए की लागत से विकासखंड सरायपाली के ग्राम सिरपुर में सिंचाई व्यपर्तन योजना का निर्माण किया जा चुका है। डॉ. सिंह ने अंत्योदय कल्याण मेले में इस सिंचाई योजना का भी लोकार्पण किया।    अंत्योदय कल्याण मेले और स्वच्छता सम्मेलन की अध्यक्षता विधानसभा अध्यक्ष श्री गौरीशंकर अग्रवाल ने की। श्री अग्रवाल के साथ ही लोकसभा सांसद श्री चंदूलाल साहू और सरायपाली के विधायक श्री रामलाल चौहान ने भी जनता को संबोधित किया। इस अवसर पर गृह, जेल और लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री रामसेवक पैकरा, संसदीय सचिव और बसना की विधायक श्रीमती रूपकुमारी चौधरी, खल्लारी के विधायक और छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण एवं अन्य पिछड़ा वर्ग विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री चुन्नीलाल साहू, सरायपाली के विधायक श्री रामलाल चौहान, महासमुंद के विधायक डॉ. विमल चोपड़ा, क्रेडा के अध्यक्ष श्री पुरंदर मिश्रा, माटीकला बोर्ड के अध्यक्ष श्री चंद्रशेखर पांड़े, अध्यक्ष जिला पंचायत महासमुंद श्रीमती अनिता पटेल, नगरपालिका सरायपाली की अध्यक्ष श्रीमती सरस्वती पटेल, अध्यक्ष जनपद पंचायत सरायपाली श्रीमती जयंती चौहान और पूर्व राज्यमंत्री श्री पूनम चंद्राकर सहित बड़ी संख्या में पंच-सरपंच और अन्य जनप्रतिनिधि सम्मेलन में शामिल हुए।