मुंगेली जिले में सिंचाई में निरंतर वृद्धि जिले की किसान हो रहे खुशहाल

मुंगेली 01 नवम्बर (एनपी)। छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के प्रथम तीन वर्षो की प्रगति में विकासखण्ड मुंगेली के अंतर्गत मनियारी जलाशय नहर प्रणाली से 14482 हेक्टेयर एवं 01 लघु निर्मित सिंचाई योजना से 63 हेक्टेयर कुल 14545 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराई जाती थी। इसके अलावा 02 लघु सिंचाई योजनाएं (आगर व्यपवर्तन योजना एवं तोताकापा व्यपवर्तन योजना) निर्माणाधीन थी। उक्त वर्षो में विकासखण्ड मुंगेली की सिंचाई 28 प्रतिशत थी। विकासखण्ड लोरमी के अंतर्गत मनियारी जलाशय नहर प्रणाली से 23269 हेक्टेयर एवं 06 लघु निर्मित सिंचाई योजनाओं से 1387 हेक्टेयर कुल 24656 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराई जाती थी। इसके अलावा 03 लघु सिंचाई योजनाएं (रहननाला व्यपवर्तन योजना, विचारपुर डिंडोल व्यपवर्तन एवं पदमपुर व्यपवर्तन योजना) निर्माणाधीन थी। उक्त वर्षो में विकासखण्ड लोरमी की सिंचाई 56 प्रतिशत थी। विकासखण्ड पथरिया के अंतर्गत मनियारी जलाशय नहर प्रणाली से 2734 हेक्टेयर एवं 07 लघु निर्मित सिंचाई योजनाओं से 1216 हेक्टेयर कुल 3950 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराई जाती थी। इसके अलावा 02 लघु सिंचाई योजनाएं (टेसुवा व्यपवर्तन योजना एवं पथरिया व्यपवर्तन योजना) निर्माणाधीन थी। उक्त वर्षो में विकासखण्ड पथरिया की सिंचाई 12 प्रतिशत थी। इस प्रकार छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना के पूर्व मुंगेली जिले की सिंचाई 33 प्रतिशत थी।
छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के पश्चात वर्ष 2004-05 से वर्ष 2016-17 तक की उपलब्धि- विकासखण्ड मुंगेली के अंतर्गत मनियारी जलाशय नहर प्रणाली से 18602 हेक्टेयर, 03 लघु सिंचाई योजनाओं से 4314 हेक्टेयर एवं 16 एनीकटों से 2276 हेक्टेयर कुल 25192 हेक्टेयर है। इसमें से तोताकापा व्यपवर्तन योनजा निर्माणाधीन है। निर्माणाधीन योजना के पूर्ण हो जाने से विकासखण्ड मुंगेली की सिंचाई 48.84 प्रतिशत हो जायेगी। विकासखण्ड लोरमी के अंतर्गत 04 लघु सिंचाई योजनाएं (रहननाला फीडर, पदमपुर व्यपवर्तन, विचारपुर डिंडोल व्यपवर्तन एवं सहसपुर व्यपवर्तन) जिसकी कुल रूपांकित सिंचाई क्षमता 4502 हेक्टेयर एवं 05 एनीकटों जिसकी कुल रूपांकित सिंचाई क्षमता 589 हेक्टेयर है। इसमें से सहसपुर व्यपवर्तन योजना एवं कोयलारी एनीकट योजना निर्माणाधीन है। निर्माणाधीन योजनाओं के पूर्ण हो जाने से विकासखण्ड लोरमी में मनियारी जलाशय नहर प्रणाली से 29889 हेक्टेयर एवं 10 लघु सिंचाई योजनाओं से 5889 हेक्टेयर, 05 एनीकटों से 589 हेक्टेयर कुल 36367 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा उपलब्ध हो जायेगी। इससे विकासखण्ड लोरमी की सिंचाई 83 प्रतिशत हो जायेगी। विकासखण्ड पथरिया के अंतर्गत 03 लघु सिंचाई योजनाएं मनियारी बैराज, कलार जेवरा व्यपवर्तन एवं पथरिया बैराज योजना जिसकी कुल रूपांकित क्षमता 3751 हेक्टेयर एवं 24 एनीकटों जिसकी कुल रूपांकित सिंचाई क्षमता 5869 हेक्टेयर है। इसमें से 03 लघु सिंचाई योजनाएं पथरिया बैराज, कलारजेवरा व्यपवर्तन एवं भंवरकछार एनीकट योजना निर्माणाधीन है। निर्माणाधीन योजना के पूर्ण हो जाने से विकासखण्ड पथरिया में मनियारी जलाशय नहर प्रणाली से 3509 हेक्टेयर एवं 12 लघु सिंचाई योजनाओं से 7062 हेक्टेयर तथा 24 एनीकटों से 5869 हेक्टेयर, कुल 16440 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा उपलब्ध होगी। इससे विकासखण्ड पथरिया की सिंचाई 48 प्रतिशत हो जायेगी। इस प्रकार छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के पश्चात मुंगेली जिले की सिंचाई लगभग 60 प्रतिशत हो जायेगी।