युवती को बनना था करोड़पति, कराया ट्रिपल मर्डर

0-मामला तोगडिय़ा के भाई समेत तीन की हत्या का
सूरत,18 मई (एनपी)। प्रवीण तोगडिय़ा के भाई समेत तीन लोगों की हत्या के मामले में एक महिला को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। 25 साल की इस तलाकशुदा सिंगल मदर ने तेजी से करोड़पति बनने का सपना देखा। पैसा कमाने की अंधी चाह ने उसे आज तिहरे हत्याकांड की मुख्य साजिशकर्ता होने के आरोप में सलाखों के पीछे ला खड़ा कर दिया। सूरत शहर को दहशत में लाने वाले एक तिहरे हत्याकांड मामले में महिला के इकबालिया बयान से खुलासा हुआ है कि उसने ही हत्या के लिए उकसाया था।
यह मामला जमीन की डील कराने के एवज में लाइजनिंग के तौर पर लिए जाने वाले पैसे से जुड़ा हुआ है। कोमल गोयानी नाम की इस महिला का तलाक हो चुका है और उसका चार साल का एक बच्चा है। पुलिस से पूछताछ में कोमल ने स्वीकार किया है कि उसने अपने भाई गौतम उर्फ गोल्डन और पिता गणेश को इस बात के लिए उकसाया था कि वह तिहरे हत्याकांड में मारे गए बालू हिरानी से 50 लाख रुपये वसूलें।
यह पैसा कोमल को एक जमीन की डील कराने के एवज में मिलना था। शनिवार को हुए इस तिहरे हत्याकांड में पुलिस ने गौतम, किशन रमेश खोखर और भद्रेश नाम के आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। गौतम और कोमल के पिता गणेश को अभी तक गिरफ्तार नहीं किया जा सका है।
इस सारे कांड के पीछे जो चेहरा सामने आया है वह 25 साल की महत्वाकांक्षी युवती कोमल का है। कोमल ने 2014 में कामरेज ममलतदार ऑफिस में छह महीने के लिए क्लर्क के तौर पर काम किया था। इसी दौरान उसने लाइजनिंग की दुनिया में अपना भी एक नाम बना लिया। वह लैंड डील कराने वाले और कई बड़े व्यवसायियों के संपर्क में आ गई थी।
हालांकि काम के दौरान कई शिकायतें मिलने की वजह से कंपनी ने कोमल का कॉन्ट्रैक्ट रीन्यू नहीं किया। लैंड डील कराने के लिए मिले कमिशन से पैसा बनाने के बाद कोमल ने 2015 में कांग्रेस के पैनल पर कामरेज तालुका पंचायत का चुनाव भी लड़ा।
इसी दौरान कोमल व्यवसायी हिरानी के संपर्क में आई। हिरानी एक जमीन के विवाद में फंसा था। कोमल ने हिरानी को आश्वासन दिया कि अपने संपर्कों की मदद से वह उसकी मुश्किल का हल निकाल देगी। काम के बाद कोमल ने कमिशन के तौर पर हिरानी से 50 लाख रुपये की मांग की।
जब कोमल को लगने लगा कि हिरानी पैसे देने में आनाकानी कर रहा है, तो उसने अपने पिता और भाई को उकसाया। उसके उकसावे में आकर कोमल के भाई ने हिरानी समेत दो पर उनके दफ्तरों में हमला किया। पुलिस जांच में पता चला है कि कोमल ने बाद में सबूत मिटाने के लिए भी अपने भाई की मदद की। साथ ही भागने के लिए उसे पैसे भी दिए।