जैविक खादों पर भी किसानों को मिलेगा नियमानुसार अनुदान

: कृषि मंत्री श्री अग्रवाल ने किसानों को दिलाया भरोसा
रायपुर 30 अप्रैल (एनपी)। कृषि मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा है कि जैविक खेती आज की प्रमुख जरूरत बन गई है। छत्तीसगढ़ के किसानों को भी जैविक खादों की खरीदी पर नियमानुसार अनुदान मिलेगा। श्री अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश सरकार किसानों के हर संकट में उनके साथ है।  किसानों के हितों का हर संभव ध्यान रखा जाएगा। खेती-किसानी बेहतर करने हर समस्या का समाधान प्रदेश सरकार पूरी संवेदनशीलता के साथ करेगी। श्री अग्रवाल आज यहां अपने निवास पर दुर्ग, बेमेतरा और बालोद जिले के किसानों के प्रतिनिधि मंडल से चर्चा कर रहे थे।  प्रतिनिधि मंडल में इन जिलों के किसानों के अलावा प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों के अध्यक्ष भी शामिल थे। श्री अग्रवाल को प्रतिनिधि मंडल की सदस्यों ने एक ज्ञापन सौंपकर अपनी विभिन्न समस्याओं से अवगत कराया।
श्री अग्रवाल से चर्चा करते हुए किसानों ने कहा कि सहकारी समितियों के माध्यम से मिलने वाले अल्पकालीन ऋण में राज्य शासन से मान्यता प्राप्त किसी भी संस्था से कृषि आदान की खरीदी पर ब्याज अनुदान की पात्रता होनी चाहिए। प्राथमिक साख सहकारी समिति के श्री पुरषोत्तम पटेल ने बताया कि केन्द्र सरकार के जैविक मिशन से दुर्ग जिले के किसान काफी प्रभावित हुए हैं। किसानों की रूझान तेजी से जैविक खेती की ओर बढ़ रही है। उम्मीद की जा सकती है कि दुर्ग जिला भविष्य में जैविक खेती के क्षेत्र में अग्रणी होगा। किसान नेता श्री इन्द्रेश हरमुख ने बताया कि पंजीयक सहकारी संस्थाएं रायपुर द्वारा छत्तीसगढ़ राज्य विपणन संघ एवं बीज निगम से खरीदी गई रसायनिक खादों में ब्याज अनुदान की पात्रता के संबंध में उल्लेख किया गया है, जबकि विभिन्न जैविक खादों के भण्डारण के संबंध में किसी प्रकार की जानकारी नहीं है। जैविक खादों पर अनुदान मिलेगा या नहीं यह भी निश्चित नहीं है। उन्होंने कहा कि रसायनिक खादों की तरह जैविक खादों की खरीदी पर भी किसानों को ब्याज अनुदान मिलना चाहिए।
प्रतिनिधि मंडल में सर्वश्री यशवंत वर्मा, हुलेश हरमुख, प्रतापचंद, आत्माराम, अशोक कुमार साहू, दुलेश्वर हरमुख, डेरहा लाल साहू, लेखू दास, प्रकाश वर्मा, गोविंदा और मन्नूलाल भेडिय़ा शामिल थे।