प्रैग्नेंसी में ग्रीन टी पीना फायदेमंद है या नुकसानदेह?

Sharing it

प्रैग्नेंसी में ग्रीन टी पीना फायदेमंद है या नुकसानदेह?

 

बढ़ते वजन को कम करने के लिए लोगों में ग्रीन टी पीने का शौक बढ़ता जा रहा है। वह इसका सेवन इतना ज्यादा करने लगे हैं कि इसे वजन घटाने के लिए जादू की छड़ी मानने लगे हैं। आप सभी ने इसके फायदों के बारे में तो सुना ही होगा लेकिन इसे अत्यधिक मात्रा में लेने से सेहत को नुकसान भी होता है। इसके अलावा इसे कभी भी खाली पेट या फिर खाना खाने के तुरंत बाद नहीं पीना चाहिए। अगर आप दिन में इसके तीन कप पीते है तो पानी भी उसी के हिसाब से पीएं। आइए जानिए इसे ज्यादा मात्रा में लेने से क्या-क्या नुकसान होते हैं।

1. गर्भपात की समस्या
इसमें कैफीन होने के कारण यह गर्भवती महिलाओं के लिए हानिकारक हो सकती है। इसे पीने से गर्भपात होने का खतरा होता है। इसलिए प्रेग्नेंट और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इसे न पीने ती सलाह दी जाती है।

2. अनिद्रा
ग्रीन टी में कैफीन की मात्रा भरपूर पाई जाती है इसलिए इसे अधिक मात्रा में लेने से अनिद्रा की समस्या हो जाती है। इसके अलावा सीने में जलन और दिल की धड़कन असीमित हो सकती है।

3. आयरन की कमी
ग्रीन टी में टैनिन नामक तत्व होता है जो भोजन से आयरन लेने की प्रक्रिया को कम कर देता है। जिससे शरीर में आयरन की कमी होने लगती है। इसकी कमी होने पर एनिमिया की समस्या हो सकती है।

4. शरीर का कमजोर होना
ग्रीन टी ज्यादा पीने से भूख कम होने लगती है। जिसके कारण आप प्राप्त मात्रा में भोजन नहीं ले पाते और शरीर में पोषक तत्वों की कमी जाती है। शरीर कमजोर पड़ने लगता है।

5. गुर्दे में पथरी
ग्रीन टी में ऑक्जेलिक एसिड पाया जाता है जो इसमें मौजूद कैल्शि‍यम, यूरिक एसिड, अमीनो एसिड और फास्फेट के साथ मिल कर गुर्दे की पथरी का कारण बनती है।