कलेक्टर ने दौरे के दौरान लाख चुनती, राशन ले जाती महिलाओं से की स्नेह भरी बातचीत

Sharing it

  • नारायणपुर :  शासन-प्रशासन महिलाओं की दुख-तकलीफ खत्म करने में अग्रसर-श्री वर्मा

नारायणपुर ।  विगत शनिवार 10 मार्च को कलेक्टर श्री टोपेश्वर वर्मा ने अपने आकाबेड़ा, नेड़नार दौरे के दौरान रास्ते में गाड़ी रूकवाकर मछली पकड़ती, लाख चुनती और राशन ले लेकर आ रही महिलाओं से स्नेहभरी मुलाकात कर उनके गांव और परिजनों और उनकी काम के बारे में और उनके सुख-दुख के बारे में हाल-चाल पूछा तथा संक्षिप्त जानकारी ली। कलेक्टर ने कुकड़ाझोर में अपनी पोती के साथ लाख चुनती बुजुर्ग महिला से उसका हाल-चाल जाना और पूछा की, वे क्या चुन रही हैं। बुजुर्ग महिला ने कमजोर आंखों को मिच-मिचाते हुए कहा कि वे पेड़ से गिरती हुई लाख चुन रही है। इस मौसम में पेड़ से लाख सूखकर, चटककर गिरती हैं। आदिवासी महिलायें अपनी रोजी-रोटी के लिए लाख चुनकर स्थानीय हाट-बाजार में बेचती हैं। इसी दौरान बीच रास्ते में गाड़ी रूकवाकर कलेक्टर श्री वर्मा मछली पकड़ती हुई महिलाओं के पास पहुंचे। उन्होंने बातचीत की और कहा कि वे इतनी छोटी मछली पकड़कर रही है, क्या उनके लिए पर्याप्त भोजन होगा। उन्हांेने महिलाओं से पूछा कि क्या वे मछलीपालन के व्यावसाय करना चाहेंगी, तो वे उनके लिए डबरी निर्माण करा सकते हैं। महिलाओं ने कहा कि वे गांव वालों से पूछकर ही कुछ निर्णय लेंगी। उन्होंने कहा कि शासन-प्रशासन महिलाओं की हर दुख-तकलीफ को खत्म करने में अग्रसर है। उनकी खुशहाली के लिए बेहतर से बेहतर योजनाएं संचालित कर रहा है, वे इसका लाभ उठायें।

कलेक्टर श्री टोपेश्वर वर्मा ने रास्ते में आकाबेड़ा से राशन लेकर लौटती महिलाओं से भी चर्चा की और उनके द्वारा लायी गयी सामग्री का अवलोकन भी किया। उनके पास उपलब्ध राशन कार्ड को भी देखा। एक महिला ने नाम पूछने पर अपना नाम प्रमिला बताया कलेक्टर ने उनसे उनके गांव के बारे में जानकारी ली और गांव की जरूरी सुविधाओं के बारे में जाना। डरी सहमी महिलाओं ने कलेक्टर को अपने गांव के संबंध में जानकारी से अवगत कराया। कलेक्टर ने अपने संक्षिप्त समय में शासन की लाभकारी योजनाओं की भी जानकारी देकर उनसे उम्मीद की कि वे इसका जरूर लाभ उठायें। इस मौके पर उनके साथ एसडीएम श्री दिनेश नाग, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास श्री केएस मसराम, सीईओ जनपद पंचायत ओरछा श्री आशीष डे के अलावा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।