अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के 100 मिसाइल हमलों से दहला सीरिया (pics)

दमिश्क: सीरिया में हुए कथित रासायनिक हमलों में करीब 40 लोगों की मौत के जवाब में  दुनिया के 3 महाशक्तिशाली देशों ने आज सीरिया के खिलाफ बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया जिससे पूरी दुनिया हिल गई । अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हवाई हमलों की घोषणा के बाद आज सुबह अमरीका, फ्रांस व ब्रिटेन द्वारा किए 100 मिसाइल हमलों से सीरिया की राजधानी  दहल उठी  जिससे आसमान में घना धुआं छा गया।  सीरिया की वायु रक्षा सेना ने  इन संयुक्त हमलों का जवाब भी दिया।
PunjabKesari
सीरियाई सरकारी टेलीविजन ने दिखाया कि वैज्ञानिक अनुसंधान केंद्र पर हमला हुआ और सीरिया के वायु रक्षा ने दक्षिणी दमिश्क की ओर आ रहे 13 रॉकेटों को हवा में ही नाकाम कर दिया। सीरियाई सरकारी टीवी ने कहा कि ये हमले  अंतर्राष्ट्रीय कानून का स्पष्ट उल्लंघन हैं और यह अंतर्राष्ट्रीय वैधता की अवमानना को दर्शाता है।

PunjabKesari

गौरतलब है कि  ट्रंप ने शुक्रवार रात अपने 3 सहयोगियों के साथ मिलकर सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद को कथित रासायनिक हमले के लिए दंडित करने और उन्हें ऐसा दोबारा करने से रोकने के लिए सैन्य हमले करने की घोषणा की थी। सीरिया सरकार लगातार प्रतिबंधित हथियार  के इस्तेमाल की बात नकार रही है। अमरीका के रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस का कहना है कि प्रारंभिक हवाई हमलों में अमरीकी हार की कोई रिपोर्ट नहीं है।

PunjabKesari

उन्होंने  हमले करने की संभावना को खारिज किए बिना कहा , ” फिलहाल यह एकमात्र हमला है। मैटिस ने कहा कि रासायनिक हथियार बनाने में असद के मददगार विभिन्न स्थलों पर हमला किया गया है। ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि हमले के प्रभावों का आकलन किया जाना अभी बाकी है।

PunjabKesari

उधर, ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने आज कहा कि उन्होंने ब्रिटेन की सेनाओं को सीरिया के रासासनिक हथियारों के ठिकानों को नष्ट करने के लिए हमले करने का आदेश दिया है।  थेरेसा मे ने कहा कि हमले  गृहयुद्ध में हस्तक्षेप  और  शासन में बदलाव  के लिए नहीं  हैं । वे क्षेत्र में और तनाव उत्पन्न नहीं करेंगे  और नागरिकों को हताहत होने से बचाने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे।
PunjabKesari
दूसरी तरफ ट्रंप ने सीरिया हमले को लेकर रूस को घेरा है। ट्रंप ने कहा, ‘सीरिया पर हुआ हमला असद के रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल को रोकने की रूस की विफलता का प्रत्यक्ष परिणाम है।’ ट्रंप ने कहा है कि सीरिया पर अमरीकी हमलों की ब्रिटिश, फ्रांसीसी सहयोगियों के साथ मिलकर शुरू की गई प्रक्रिया अब भी चल रही है।

PunjabKesari
गौरतलब है कि पिछले हफ्ते 7 अप्रैल को सीरिया के राष्ट्रपति बशर-अल-असद की सरकार द्वारा विद्रोहियों पर रासायनिक हथियारों के प्रयोग की बात सामने आई थी। इस हमले में 70 से अधिक लोगों की मौत हुई थी, जिसमें कई बच्चे भी थे। अमरीका की तरफ से उस वक्त ही सीरिया के खिलाफ सख्ती से पेश आने की प्रतिक्रिया दी गई थी।